सुकन्या समृद्धि योजना की जानकारी हिन्दी में Sukanya Samriddhi Yojana

सुकन्या समृद्धि योजना [Sukanya Samriddhi Yojana]


Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi
देश में गिरता लिंगानुपात हर वर्ग के लिए चिंता का विषय बन चुका है। महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य जरूरतों के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही है। लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के तहत सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) की शुरुआत की है।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) का उद्देश्य-

  • सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य बेटियों की पढ़ाई और उनकी शादी पर आने वाले खर्च को आसानी से पूरा करना है।
  • इस योजना के अंतर्गत बेटी की पढ़ाई व शादी के लिए डाक विभाग या बैंक में सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट खुलवाया जा सकता है। डाक विभाग के किसी भी पोस्ट ऑफिस के साथ अकाउंट खोलने के लिए सुविधा सेंटर में भी अलग काउंटर खुलेगा। यहां जरूरी दस्तावेज जमा करवाने के बाद खुलाया जा सकेगा।
  • Sukanya Samriddhi Yojana के लिए सरकार ने राष्ट्रीय बैंकों को अधिकृत किया है, जिनमें इस योजना का लाभ लेने के लिए खाता खोला जा सकता है।

Indian Govt. Schemes – सरकारी योजना

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के नियम-

  • सुकन्या समृद्धि खाता बेटी के माता-पिता या कानूनी अभिभावक उसके नाम से खुलवा सकते हैं। इसे बेटी के जन्म से 10 साल का होने तक खुलवाया जा सकता है। एक बच्ची के लिए एक ही Sukanya Samriddhi Khata खोला जा सकता है। अभिभावक अपनी दो बेटियों के लिए दो अकाउंट भी खोल सकते हैं, जुड़वा होने पर उसका प्रूफ देखकर ही अभिभावक तीसरा खाता खोल सकेंगे।
  • सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवेदन पत्र बैंक से प्राप्त किया जा सकता है तथा इसमें आवश्यक जानकारी भर कर वापस बैंक में ही जमा कर सकते हैं।

Central Govt. Schemes – केंद्र सरकार की योजनाएं

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज- Sukanya Samriddhi Yojana Documents

• बेटी का जन्मप्रमाण पत्र
• बेटी और अभिभावक के पहचान पत्र और मूल निवास प्रमाण पत्र।

Sukanya Samriddhi Yojana में कितनी रकम जमा कर सकते हैं?

  • सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाने के लिए ₹250 काफी है। किसी एक वित्त वर्ष में कम से कम ₹250 जमा करवाने पड़ते हैं। एक वर्ष में अधिकतम 1.5 लाख रुपये सुकन्या समृद्धि खाते में जमा करवाए जा सकते हैं।
  • यह पैसा अकाउंट खुलने के 14 साल तक ही जमा करवाना होगा और यह खाता बेटी के 21 साल की होने पर ही मैच्योर होगा।
  • सुकन्या समृद्धि खाते में न्यूनतम राशि जमा न होने पर वह अनियमित हो जाता है। इसे ₹50 सालाना की पेनल्टी देख कर नियमित कराया जा सकता है।इसके साथ ही हर साल के लिए कम से कम जमा कराई जाने वाली रकम भी खाते में डालनी पड़ेगी।
  • पेनल्टी न चुकाने पर सुकन्या समृद्धि खाते में जमा रकम पर पोस्ट ऑफिस के सेविंग अकाउंट के बराबर ब्याज मिलेगा। यह अभी करीब 4% है अगर सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज ज्यादा चुका दिया गया है तो उसे रिवाइज किया जा सकता है।

यह भी पढ़िए :

PM रोजगार योजना 2020 – Pradhan Mantri Rojgar Yojana (PMRY Loan
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 से जुडी सभी जानकारियां: National Education Policy
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना: PM Kisan Samman Nidhi Yojana
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना मुफ्त गैस कनेक्शन: Pradhan Mantri Ujjwala Yojana

पीएम कन्या योजना खाते में कैसे जमा होती है राशि-

  • सुकन्या समृद्धि खाते में कैश, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या ऐसे किसी इंस्ट्रूमेंट से रकम जमा कर सकते हैं जिसे बैंक स्वीकार करता हो, इसके लिए पैसे जमा कराने वाले और खाता धारक का नाम लिखना जरूरी है।
  • इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर मोड से भी पैसे जमा करा सकते हैं। इसके लिए उस पोस्ट ऑफिस या बैंक में कोर बैंकिंग सिस्टम मौजूद हो। अगर खाते में चेक या ड्राफ्ट से पैसे जमा किए जाते हैं तो क्लियर होने के बाद से उस पर ब्याज दिया जाएगा। जबकि ई-ट्रांसफर के मामले में डिपॉजिट के दिन से ही यह कैलकुलेशन होगा।
  • सरकारी बॉन्ड की यील्ड के आधार पर हर तिमाही सरकार ब्याज दर तय करती है। सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज दर सरकारी बॉन्ड की तुलना में 0.75% तक अधिक होता है।

Sukanya Samriddhi Yojana Interest Rate List

  1. 1 अप्रैल 2014 = 9.1%
  2. 1 अप्रैल 2015 = 9.2%
  3. 1 अप्रैल 2016 – 30 जुन 2016 = 8.6%
  4. 1 जुलाई 2016 – 30 सितम्बर 2016 =8.6%
  5. 1 अक्टूबर 2016 – 31 दिसंबर 2016 =8.5%
  6. 1 जुलाई 2017 – 31 दिसंबर 2107 = 8.3%
  7. 1 जनवरी 2018 – 31 मार्च 2018 =8.1%
  8. 1 अप्रैल 2018 – 30 जून 2018 = 8.1%
  9. 1 जुलाई 2018 – 30 सितम्बर 2018 = 8.1%
  10. 1अक्टूबर 2018 – 31 दिसंबर 2018 = 8.5%
  11. 1 जनवरी 2019- 31 मार्च 2019 = 8.5%

Sukanya Samriddhi Yojana के अन्य नियम और विशेषता –

  • खाताधारक की मौत हो जाने पर मृत्यु प्रमाण पत्र दिखाकर sukanya samriddhi account बंद कराया जा सकता है। इसके बाद खाते में जमा राशि बेटी के अभिभावकों को ब्याज सहित वापस दी जाएगी।
  • किसी खास स्थिति में सुकन्या समृद्धि खाता खुलने से 5 साल के बाद इसे बंद किया जा सकता है। मसलन किसी जानलेवा बीमारी के मामले में , या इसके बाद भी अगर किसी दूसरे कारण से सुकन्या समृद्धि खाता बंद किया जाता है तो इसकी इजाजत है,लेकिन तब ब्याज सेविंग अकाउंट हिसाब से मिलेगा।
  • सुकन्या समृद्धि खाता देशभर में कहीं भी ट्रांसफर हो सकता है। इसके लिए जिस व्यक्ति के नाम से सुकन्या समृद्धि खाता खुला है वह एक जगह से कहीं ओर शिफ्ट हो रही है।
  • ट्रांसफर में कोई फीस नहीं लगती है इसके लिए खाताधारक या उसके माता-पिता/अभिभावक के शिफ्ट होने का सबूत दिखाना पड़ता है। अगर कोई सबूत नहीं दिखाया गया तो सुकन्या समृद्धि खाते ट्रांसफर के लिए पोस्ट ऑफिस या बैंक को ₹100 फीस चुकानी पड़ेगी जहां खाता खोला गया है।
  • खाताधारक की वित्तीय जरूरतें पूरी करने के लिए आंशिक निकासी भी की जा सकती है इसमें उच्च शिक्षा और शादी जैसे काम शामिल है। इसमें सुकन्या समृद्धि खाते में पिछले वित्त वर्ष के अंत तक जमा रकम का 50 % निकाला जा सकता है। खाते से यह निकासी तभी संभव है यदि खाताधारक 18 साल की उम्र पार कर ले। खाते से रकम निकालने के लिए एक लिखित आवेदन और किसी शैक्षणिक संस्थान में प्रवेश ऑफर या फीस स्लिप की जरूरत होती है।
  • इस योजना का लाभ सिर्फ भारत में रहने वाली बेटियों को ही मिलता है। अनिवासी भारतीय सुकन्या समृद्धि खाता नहीं खुलवा सकते हैं। हालांकि योजना की अवधि के दौरान यदि बेटी की नागरिकता बदलती है तो उसी दिन से सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज मिलना बंद हो जाएगा, जिस दिन से नागरिकता के दर्जे में बदलाव होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना में टैक्स लाभ-

-इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80 C के तहत सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने पर टैक्स छूट भी मिलती है। यानी सालाना ₹1.5 लाख के निवेश पर आप टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना में मिलने वाला रिटर्न भी टैक्स फ्री है।
इस योजना के बारे में और अधिक जानने के लिए यंहा क्लिक करे

Leave a Comment